Total Pageviews

Monday, March 14, 2011

रिश्ते ख़ामोश हुए



जाने पहचाने से रास्तों से, गुज़रते हुए,

कुछ खिली - खिली,कुछ रंगीन, पंखुडियां

दामन में बटोरीं थीं; बड़े प्यार दुलार से.

वोह कमतर साबित हुआ.

उन्हें सहेजने और समेटने में

दामन तार-तार हो गया.

उनकी कंटीली चुभन से

मन लहूलुहान हो गया.

ये ज़िन्दगी का पहला सबक था.

भुलाये नहीं भूलता था.

बार बार कंटीली पंखुड़ियों को,

समेट लेने का मनं करता था,

पर वजूद ने उनकी और पैरवी न करी,

एक मौलसिरी के दरख़्त के नीचे ही अब,

उन पाकीज़ा पंखुड़ियों को दफ़न कर आई हूँ,

जिन्हें कभी बड़े प्यार और दुलार से सहेजा था,

उन्हें अब और मत कुरेदो,

उनसे रिश्ते ख़ामोश हुए,

अब उन्हें चैन की सांस लेने दो.

अब मुझे चैन की सांस लेने दो.

-aparna shukla

11 comments:

  1. This poetry has emanated from the very depths of my being.

    ReplyDelete
  2. एक उत्कृष्ट रचना के माध्यम से बहुत ही मार्मिक प्रस्तुति

    "This poetry has emanated from the very depths of my being"

    भावों रचना में बखूबी पिरोया है जिन्हें महसूस किया जा सकता है

    ReplyDelete
  3. शुभागमन...!
    कामना है कि आप ब्लागलेखन के इस क्षेत्र में अधिकतम उंचाईयां हासिल कर सकें । अपने इस प्रयास में सफलता के लिये आप हिन्दी के दूसरे ब्लाग्स भी देखें और अच्छा लगने पर उन्हें फालो भी करें । आप जितने अधिक ब्लाग्स को फालो करेंगे आपके ब्लाग्स पर भी फालोअर्स की संख्या उसी अनुपात में बढ सकेगी । प्राथमिक तौर पर मैं आपको 'नजरिया' ब्लाग की लिंक नीचे दे रहा हूँ, किसी भी नये हिन्दीभाषी ब्लागर्स के लिये इस ब्लाग पर आपको जितनी अधिक व प्रमाणिक जानकारी इसके अब तक के लेखों में एक ही स्थान पर मिल सकती है उतनी अन्यत्र शायद कहीं नहीं । प्रमाण के लिये आप नीचे की लिंक पर मौजूद इस ब्लाग के दि. 18-2-2011 को प्रकाशित आलेख "नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव" का माउस क्लिक द्वारा चटका लगाकर अवलोकन अवश्य करें, इसपर अपनी टिप्पणीरुपी राय भी दें और आगे भी स्वयं के ब्लाग के लिये उपयोगी अन्य जानकारियों के लिये इसे फालो भी करें । आपको निश्चय ही अच्छे परिणाम मिलेंगे । पुनः शुभकामनाओं सहित...

    नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव.

    उन्नति के मार्ग में बाधक महारोग - क्या कहेंगे लोग ?

    ReplyDelete
  4. Dhanyavad, Sir! Aapki shubhkamnaon aur samyik margdarshan ke liye bhi!

    ReplyDelete
  5. Pandeyji evam Kaushikji ka bhi sadar dhanyavad!

    ReplyDelete
  6. " भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" की तरफ से आप को तथा आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामना. यहाँ भी आयें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो फालोवर अवश्य बने .साथ ही अपने सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ . हमारा पता है ... www.upkhabar.in

    ReplyDelete
  7. Wow! Aparna you wrote very well...All the emotions are very beautfully expressed...mind blowing...keep writing.
    Meenakshi

    ReplyDelete